Others

संस्कृति विवि में वसंत पंचमी पर हुई पूजा और खूब उड़ीं पतंग

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय के मैदान में वसंत पंचमी का त्योहार परंपरागत रूप से पूरे जोश और उत्साह के साथ मनाया गया। इस अवसर मां सरस्वती की पूजा कर देश के कल्याण और उत्थान की प्रार्थना की गई। इस अवसर पर विद्यार्थियों के बीच ‘पतंगबाज’ प्रतियोगिता भी आयोजित हुई। प्रतियोगिता में विद्यार्थियों ने रंगबिरंगी पतंगों के साथ जोरदार पेच लड़ाए।
संस्कृति विश्वविद्यालय के मुख्य मैदान पर बने मंच पर विराजमान सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन और आरती उतारी गई। विश्वविद्यालय की सीईओ श्रीमती मीनाक्षी शर्मा ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि वसंत ऋतु आते ही प्रकृति का कण-कण खिल उठता है। मानव तो क्या पशु-पक्षी तक उल्लास से भर जाते हैं। हर दिन नयी उमंग से सूर्योदय होता है और नयी चेतना प्रदान कर अगले दिन फिर आने का आश्वासन देकर चला जाता है। यों तो माघ का यह पूरा मास ही उत्साह देने वाला है, पर वसंत पंचमी (माघ शुक्ल ) का पर्व भारतीय जनजीवन को अनेक तरह से प्रभावित करता है। प्राचीनकाल से इसे ज्ञान और कला की देवी मां सरस्वती का जन्मदिवस माना जाता है। जो शिक्षाविद, विद्यार्थी भारत और भारतीयता से प्रेम करते हैं, वे इस दिन मां शारदे की पूजा कर उनसे और अधिक ज्ञानवान होने की प्रार्थना करते हैं। जो महत्व सैनिकों के लिए अपने शस्त्रों और विजयादशमी का है, जो विद्वानों के लिए अपनी पुस्तकों और व्यास पूर्णिमा का है, जो व्यापारियों के लिए अपने तराजू, बाट, बहीखातों और दीपावली का है, वही महत्व कलाकारों के लिए वसंत पंचमी का है। चाहे वे शिक्षक हों, विद्यार्थी, कवि हों या लेखक, गायक हों या वादक, नाटककार हों या नृत्यकार, सब दिन का प्रारम्भ अपने उपकरणों की पूजा और मां सरस्वती की वंदना से करते हैं। उन्होंने संस्कृति विवि के विद्यार्थियों, शिक्षकों को वसंत पंचमी की शुभकामनाएं देते हुए इस त्योहार को पूरे उत्साह के साथ मनाने की अपेक्षा की।
इस मौके पर विवि के छात्र-छात्राओं ने मां सरस्वती को समर्पित गीतों पर भावपूर्ण नृत्य प्रस्तुत किए। मंच से विवि के डाइरेक्टर जनरल डा. जेपी शर्मा, डा. रजनीश त्यागी आदि ने भी विद्यार्थियों को वसंत पंचमी की शुभकामनाएं प्रेषित कीं। कार्यक्रम का संचालन संस्कृति ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट की वरिष्ठ प्रबंधक अनुजा गुप्ता ने किया। वहीं संस्कृति दिव्यांग स्कूल में भी मां सरस्वती का पूजन कर बच्चों ने पूरे उत्साह के साथ वसंत पंचमी का त्योहार मनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *